Wednesday, 20 June 2018, 6:34 PM

ज्योतिष एवं वास्तु

16 मई से शुरू हो गए हैं अधिकमास, 13 जून तक नहीं होंगे मांगलिक कार्य

Updated on 16 May, 2018, 11:00
हिन्दू शास्त्रों में 'अधिक मास' को बड़ा ही पवित्र माना गया है। इसलिए अधिक मास को पुरुषोत्तम मास भी कहा जाता है। शास्त्रों के अनुसार, अधिकमास में व्रत, पवित्र नदियों में स्नान और तीर्थ स्थानों की यात्रा करने से बहुत पुण्य मिलता है। वर्ष 2018 में अधिक मास 16 मई से... आगे पढ़े

जेब पर बोझ डाले बिना दूर होगा वास्तुदोष

Updated on 16 May, 2018, 6:40
दिशाओं के दोष को दूर करने का सबसे आसान तरीका है मंत्रों का जाप। इसके प्रभाव स्वरूप आप काफी हद तक वास्तु दोषों से मुक्ति प्राप्त कर पाएंगे। ध्यान रखें मंत्र जाप में आस्था और विश्वास अति आवश्यक हैं। यदि आप सम्पूर्ण भक्ति भाव और एकाग्रचित्त होकर इन मंत्रों को... आगे पढ़े

दिल में छुपे हर सवाल का जवाब देता है ये Body part

Updated on 16 May, 2018, 6:20
ज्योतिष शास्त्र में हथेली के चिन्ह, जातक के जीवन में विशेष प्रभाव डालते हैं। देशकाल परिस्थिति में भी परिवर्तन आ गया है। अत: लक्षणों का अक्षरश: मिलना तो संभव नहीं है। ऐसे लक्षण जीवन में काफी हद तक सटीक रहते हैं। हस्त में उकरे लक्षणों का सार यदि व्यवहार में... आगे पढ़े

वट सावित्री व्रत: ये है पूजा का शुभ मुहूर्त और कथा

Updated on 15 May, 2018, 9:00
वट सावित्री व्रत 15 मई, 2018 को मंगलवार के दिन किया जाएगा। भारतीय संस्कृति में वट सावित्री व्रत आदर्श नारीत्व का प्रतीक बन चुका है। इस व्रत की तिथि को लेकर भिन्न मत हैं। स्कंद पुराण तथा भविष्योत्तर पुराण के अनुसार ज्येष्ठ मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा को यह... आगे पढ़े

मलमास के कारण बैंड-बाजा और बारात बंद

Updated on 15 May, 2018, 7:00
इस महीने 16 तारीख से 13 जून तक बैंड-बाजा और बारात पर ज्योतिषीय प्रतिबंध रहेगा। कारण है इस अवधि में अधिक मास होना जिसमें सभी मांगलिक कार्य करने वर्जित माने जाते हैं । यही नहीं, इस साल पूरे नवम्बर विवाह समारोहों पर ग्रहण लगा रहेगा। 25 सितम्बर से 9 अक्तूबर... आगे पढ़े

Housewife की ये Bad Habits देवों को करती हैं नाराज़

Updated on 15 May, 2018, 6:40
प्रत्येक आवास स्थल में रसोई अथवा पाकशाला अवश्य होती है और इसका अत्यधिक महत्व भी है। वास्तु शास्त्र के अनुसार, रसोई पूर्व दक्षिणी कोण में होनी चाहिए जहां प्रात: 11 बजे के बाद 4 बजे तक अल्ट्रा वायलेट अथवा भरपूर ऊर्जा शक्ति, भगवान सूर्य नारायण के इस दिशा में आने... आगे पढ़े

शनि जयंती पर महासंयोग, देखें किस राशि में लाभ का योग

Updated on 15 May, 2018, 6:20
शनि जयंती हर साल ज्येष्ठ महीने की अमावस्या तिथि को मनाई जाती है। शनिवार के दिन अमावस्या होने पर इस दिन का महत्व बढ़ जाता है लेकिन इस बार यह मंगलवार के दिन है। मंगलवार के दिन अमावस्या होने पर इसे भौमवती अमावस्या कहा जाता है जिसका महत्व भी शनि... आगे पढ़े

चेहरा देख कर जानी जा सकती है दिल की बात

Updated on 14 May, 2018, 9:00
सुकरात एक बार फिर शिष्यों के साथ बैठे कुछ चर्चा कर रहे थे। तभी वहां एक ज्योतिषी आया और कहने लगा, ‘मैं ज्ञानी हूं। चेहरा देखकर चरित्र बता सकता हूं। कोई मेरी इस विद्या को परखना चाहेगा?’ सभी शिष्य सुकरात की तरफ देखने लगे। सुकरात ने उस ज्योतिषी से अपने बारे... आगे पढ़े

क्या वाकई मंदिर दर्शन से होता है लाभ, जानें वैज्ञानिक कारण

Updated on 14 May, 2018, 7:00
हमारा देश अपनी समृद्ध परंपरा और संस्कृति के लिए विश्वभर में प्रसिद्ध है। यहां आज भी कई प्राचीन काल के मंदिर मौजूद हैं। जहां अलग-अलग देवी-देवताओं को समर्पित इन मंदिरों में प्रायः लोग परिवार या अकेले भी अपने इष्टदेव की आराधना के लिए पहुंचते हैं। मगर क्या आपके मन में... आगे पढ़े

टपकता नल बिगाड़ेगा कल

Updated on 14 May, 2018, 6:40
वास्तु शास्त्र के अनुसार किसी भी माध्यम से जैसे नल, पाइप्स, ट्यूब्स, पानी की टंकी में लगे हुए नल से होने वाला पानी का रिसाव घर व कार्यालय के पैसों के नुक्सान को दर्शाता है। टपकता नल जल्द से जल्द ठीक करवाएं। जल चंद्र और मन का कारक होता है। नल... आगे पढ़े

इस उपाय से चमक जाएगा किस्मत का सितारा

Updated on 14 May, 2018, 6:20
ज्योतिष के अनुसार कुंडली में चल रहे ग्रहों की अशुभ स्थिति के कारण ही व्यक्ति को अनेकों परेशानियों और असफलताओं का सामना करना पड़ता है। अशुभ प्रभाव देने वाले ग्रहों का उचित उपचार करने पर उनके बुरे फलों को अच्छे में बदला जा सकता है। यदि आपको भी जीवन में... आगे पढ़े

आपको भी फेमस बना देगा सफलता का ये सूत्र

Updated on 13 May, 2018, 7:00
सरी सक्ती अपने वक्त के आला दर्जे के सूफी संत थे। उनकी सादगी बड़ी मशहूर थी। वह जल्दी किसी से कुछ लिया नहीं करते थे। यह बड़ा आम था कि जिसका नज़राना सरी सक्ती ने कबूल कर लिया वह खुद को धनी समझता था।  सरी सक्ती का भांजा था जुनैद। एक... आगे पढ़े

स्वस्थ रहने के 9 उपाय, आजमाकर देखें वास्तु टिप्स

Updated on 13 May, 2018, 6:40
वास्तु के अनुसार, अच्छी नींद व्यक्ति को काफी बीमारियों से दूर रखती है। रात को सोते समय ध्यान दें कि आपका सिर दक्षिण दिशा की तरफ हो और पैर उत्तर की तरफ। इन दिशाओं में इस प्रकार सोने से सिर दर्द और अनिंद्रा की दिक्कतें व्यक्ति को परेशान नहीं करती... आगे पढ़े

कैसे मिला माता अंजनी को वानरी का रूप

Updated on 12 May, 2018, 7:00
एक बार देवराज इंद्र की सभा स्वर्ग में लगी हुई थी। इसमें दुर्वासा ऋषि भी भाग ले रहे थे। जिस समय सभा में विचार-विमर्श चल रहा था उसी समय सभा के मध्य ही ‘पुंजिकस्थली’ नामक इंद्रलोक की अप्सरा बार-बार इधर से उधर आ-जा रही थी। सभा के मध्य पुंजिकस्थली का... आगे पढ़े

शनि जयंती: अपने Birthday पर शनि किसको देंगे गिफ्ट

Updated on 12 May, 2018, 6:40
कई दुर्लभ संयोग एक साथ लिए 15 मई, मंगलवार को शनि जयंती का पर्व आ रहा है। पहला संयोग तो ये शनिदेव के प्रिय हनुमान जी के वार मंगलवार को आ रही है। इस दिन सर्वार्थसिद्धि योग, वटसावित्री व्रत और भौमवती अमावस्या का शुभ संयोग बनेगा। आईए जानें, इस खास... आगे पढ़े

आपका ऑफिस में काम करने में नहीं लगता मन, अपनाएं ये उपाय

Updated on 12 May, 2018, 6:20
अगर आपका ऑफिस पहुंचकर मन नहीं लगता, बेवजह का तनाव हावी रहता है या सीट पर बैठते ही बोरियत महसूस होने लगती है, तो थोड़ा रुककर अपने डेस्क की ओर एक नजर घुमाकर देखिए। हो सकता है आपकी इन समस्याओं का संबंध वास्तु दोष से जुड़ा हो। इन्हें दूर करने... आगे पढ़े

पीपल की पूजा से शनि देव कैसे होते हैं शांत, पढ़ें पौराणिक कहानी

Updated on 11 May, 2018, 7:00
हिंदू धर्म में पीपल की पूजा का विशेष महत्व है। पीपल एकमात्र पवित्र देववृक्ष है, जिसमें सभी देवताओं के साथ ही पितरों का भी वास रहता है। श्रीमद्भगवदगीता में भगवान श्री कृष्ण ने कहा है कि अश्वत्थ: सर्ववृक्षाणाम, मूलतो ब्रहमरूपाय मध्यतो विष्णुरूपिणे, अग्रत: शिवरूपाय अश्वत्थाय नमो नम:। अर्थात मैं वृक्षों... आगे पढ़े

सूर्य कर रहा है कृतिका में प्रवेश, जानें कैसे होते हैं इस नक्षत्र में जन्मे लोग

Updated on 11 May, 2018, 6:40
शुक्रवार की शाम 06:13 पर सूर्यदेव कृतिका नक्षत्र में प्रवेश करेंगे। वह इस नक्षत्र में 25 मई की दोपहर 02:21 तक रहेंगे। कृतिका नक्षत्र स्वयं सूर्यदेव का नक्षत्र है और सूर्यदेव व्यक्ति के अंदर विवेक को जागृत करते हैं, उसके मनोबल को बढ़ाते हैं। साथ ही सूर्यदेव के प्रमुख तत्वों... आगे पढ़े

Bedroom में लगाएं ये तस्वीर, मिटेगी हर कड़वाहट

Updated on 11 May, 2018, 6:20
आजकल हर किसी को घर में अलग-अलग तरह की तस्वीरें लगाने का शौक होता है, जिसके चलते सजावट के तौर पर लोग अपने घर-दुकान में बहुत सी तस्वीरें लगा लेते हैं। लेकिन इनमें से बहुत से लोग एेसे होते हैं, जिन्हें तस्वीर लगाने से संबंधित बहुत सी बातों के बारे... आगे पढ़े

जनेऊ धारण करने से पहले जरूर बोलना चाहिए यह मंत्र

Updated on 10 May, 2018, 12:15
हिंदू धर्म में प्रत्येक हिंदू का कर्तव्य है जनेऊ पहनना और उसके नियमों का पालन करना। हर हिंदू जनेऊ पहन सकता है, बशर्ते कि वह उसके नियमों का पालन करे। ब्राह्मण ही नहीं समाज का हर वर्ग जनेऊ धारण कर सकता है। जनेऊ धारण करने के बाद ही द्विज बालक... आगे पढ़े

इस प्रार्थना को सुन कर होगा ईश्वरीय शक्तियों का एहसास

Updated on 10 May, 2018, 9:00
साधक शांत मुद्रा में आंख बंद कर बैठ जाए और ईश्वर के दिव्य प्रकाश का स्मरण करे तो उसको अनंत अंतरिक्ष में विशाल प्रकाश पुंज दिखाई पड़ेगा। दोनों हाथ ऊपर की ओर उठाकर मन को नियंत्रित करके उस दिव्य आलोक में प्रवेश करने का प्रयास करें। भागते हुए मन को... आगे पढ़े

देखें, लक्ष्मीजी को समर्पित ऐसा स्वर्ण मंदिर जो पूरे 1500 किलो सोने से बनकर हुआ है तैयार

Updated on 10 May, 2018, 7:00
देशभर में अब तक अमृतसर का गोल्डन टेम्पल ही खासा प्रसिद्ध हुआ करता था। वहां जानेवाला हर शख्स वहां की शांति और खूबसूरती देखकर मंत्रमुग्ध हो जाता था। मगर हमारे देश में इस प्रकार के अद्भुत स्थलों की कमी नहीं है। दरअसल तमिलनाडु के वेल्लोर स्थित श्रीपुरम स्वर्ण मंदिर भी... आगे पढ़े

यमराज के घर एंट्री कर मौत को दी शिकस्त

Updated on 10 May, 2018, 6:40
उपनिषद वैदिक सनातन साहित्य के श्रुति धर्म-ग्रंथ हैं। उपनिषदों को वेदांत भी कहा गया है। उपनिषद का साधारण अर्थ है विद्या की प्राप्ति के लिए शिष्य का गुरु के समीप बैठना। वेद के मर्म का ज्ञान करवाने वाला उपनिषद ऋषि और शिष्य का संवाद है। आध्यात्मिक चिंतन भारतीय सनातन संस्कृति... आगे पढ़े

वास्तु से जुड़ी छोटी-छोटी बातें, जीवन में दिखाएंगी कमाल

Updated on 10 May, 2018, 6:20
जीवन में आ रही समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए इधर-उधर भटकने की बजाय, घर के सामान में थोड़ा फेरबदल करें। वास्तु से जुड़ी कुछ बातों का ध्यान रखकर आप अपने जीवन में खुशहाली ला सकते हैं। वैसे तो हर व्यक्ति को सुख-दुख कर्मों के अनुसार भुगतने पड़ते हैं लेकिन... आगे पढ़े

इंद्र को किसने दिखाया ठेंगा!

Updated on 9 May, 2018, 9:00
    वनवास अवधि में राम, लक्ष्मण तथा सीता अनेक ऋषि-मुनियों से मिलें। उस अवधि में राम तथा तपस्वियों के मध्य विभिन्न विषयों पर जो वार्तालाप हुआ वह जीवन-दर्शन का श्रेष्ठ पैमाना है। इसी क्रम में राम ऋषि शरभंग के आश्रम पहुंचे। शरभंग की मानव देह का अंत निश्चित था। उन्होंने अपनी... आगे पढ़े

आसान है वेद-पुराणों को समझना, यह है विभाजन का क्रम

Updated on 9 May, 2018, 7:00
धार्मिक पुस्तकों की मोटाई और इनकी संख्या देखकर हम अक्सर इन्हें पढ़ने की हिम्मत नहीं जुटा पाते। फिर इनके बारे में सुनी-सुनाई बातों के अनुसार अपनी सोच बना लेते हैं। खैर, हम यहां आपको बता रहे हैं कि वेद और पुराणों को समझना बेहद आसान है, बस हमें सही क्रम... आगे पढ़े

करें कुछ ऐसा, जेब में टिकेगा पैसा

Updated on 9 May, 2018, 6:40
आमतौर पर लोग कहते हैं ये चीज मेरे लिए लकी है और ये तो बहुत अनलकी है। इसके पीछे नकारात्मक और सकारात्मक ऊर्जा होती है, जो शुभ-अशुभ का एहसास करवाती है। इसका प्रभाव आपके पर्स या जेब पर भी पड़ता है। कुछ लोग सुबह घर से निकलते वक्त हरे भरे... आगे पढ़े

लाइफ में गोल्डन टाइम लाते हैं ये पत्थर

Updated on 9 May, 2018, 6:20
प्राचीन काल से ही रत्न अपने आकर्षक रंगों, प्रभाव, आभा तथा बहुमूल्यता के कारण मानव को प्रभावित करते आ रहे हैं। अग्नि पुराण, गरुड़ पुराण, देवी भागवत पुराण, महाभारत आदि अनेक ग्रंथों में रत्नों का विस्तृत वर्णन मिलता है। ऋग्वेद तथा अथर्ववेद में सात रत्नों का उल्लेख है। गोस्वामी तुलसीदास... आगे पढ़े

नाथू ला से 500 यात्री जाएंगे कैलाश मानसरोवर

Updated on 8 May, 2018, 18:45
नई दिल्ली। इस बार कैलाश मानसरोवर की यात्रा पर 1580 श्रद्धालु जाएंगे, जिनमें 500 यात्री नाथू ला के सड़क मार्ग से जाएंगे। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने मंगलवार को यहां विदेश मंत्रालय में आयोजित एक समारोह में कैलाश मानसरोवर यात्रियों का कम्प्यूटर से ड्रॉ निकाला।  उन्होंने बताया 1080 यात्री 60-60 के... आगे पढ़े

सिसकियां लेता स्वर्ग लोक, सुनिए पुकार

Updated on 8 May, 2018, 7:00
वनवास अवधि में राम, लक्ष्मण तथा सीता अनेक ऋषि-मुनियों से मिले। उस अवधि में राम तथा तपस्वियों के मध्य विभिन्न विषयों पर जो वार्तालाप हुआ वह जीवन-दर्शन का श्रेष्ठ पैमाना है। इसी क्रम में राम ऋषि शरभंग के आश्रम पहुंचे। शरभंग की मानव देह का अंत निश्चित था। उन्होंने अपनी... आगे पढ़े

Visitor Counter