Tuesday, 16 January 2018, 8:38 PM

ज्योतिष एवं वास्तु

घर में रखेंगे इन छोटी-छोटी बातों को ध्यान, दूर होंगी बड़ी-बड़ी समस्याएं

Updated on 13 November, 2017, 7:00
घर में बरकत लाने के लिए कई उपाय किए जाते हैं। कोई पूजा-पाठ करता है तो कोई वास्तु के अनुसार घर बनवाता है। घर की स्थापना वास्तु सिद्धांत के अनुसार ही करनी चाहिए। वर्तमान युग फैशन का युग है। प्राय: व्यक्ति अपने घर में तरह-तरह के जानवरों तथा भिन्न-भिन्न मुद्राओं... आगे पढ़े

16 सोमवार व्रत करने से होती है शिवलोक की प्राप्ति

Updated on 13 November, 2017, 6:45
सोमवार का व्रत श्रावण, चैत्र, वैसाख, कार्तिक और माघ महीने के शुक्ल पक्ष के पहले सोमवार से शुरू किया जाता है। कहते हैं इस व्रत को 16 सोमवार तक श्रद्धापूर्वक करने से सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं। आइए जानें सोलह सोमवार की व्रत कथा- एक समय की बात है पार्वती जी... आगे पढ़े

देवी भुवनेश्वरी के पूजन से जीवन में होगी ऐश्वर्य की प्राप्ति

Updated on 13 November, 2017, 6:30
सोमवार दि॰ 13.11.17 को मार्गशीर्ष कृष्ण दशमी के उपलक्ष में देवी भुवनेश्वरी का पूजन श्रेष्ठ रहेगा। देवी भुवनेश्वरी तीनों लोकों की ईश्वरी हैं। देवी साक्षात संपूर्ण ब्रह्माण्ड को धारण कर पालन पोषण करती हैं। इन्हे जगन-माता व जगतधात्री के नाम से जाना जाता हैं। यही आकाश, वायु, पृथ्वी, अग्नि व... आगे पढ़े

इस वजह से भगवान विष्णु को प्रिय है तुलसी

Updated on 12 November, 2017, 8:40
श्रीमद् देवी भागवत पुराण अनुसार जलंधर असुर शिव का अंश था, लेकिन उसे इसका पता नहीं था। जलंधर बहुत ही शक्तिशाली असुर था। इंद्र को पराजित कर जलंधर तीनों लोकों का स्वामी बन बैठा। यमराज भी उससे डरने लगे।   एक बार भगवान शिव ने अपना तेज समुद्र में फेंक दिया तथा... आगे पढ़े

एेसे लोगों का सबसे बड़ा दुश्मन होता है मन

Updated on 12 November, 2017, 7:15
श्रीमद्भगवद्गीता यथारूप व्याख्याकार: स्वामी प्रभुपाद  अध्याय छह ध्यानयोग मन मित्र और शत्रु बन्धुरात्मात्मनस्त्स्य येनात्मैवात्मना जित। अनात्मनस्तु शत्रुत्वे वर्तेतात्मैव शत्रुवत्।।६।। शब्दार्थ: बन्धु:—मित्र; आत्मा—मन; आत्मन:—जीव का; तस्य—उसका; येन—जिससे; आत्मा—मन; एव—निश्चय ही; आत्मना—जीवात्मा के द्वारा; जित:—विजित; अनात्मन:—जो मन को वश में नहीं कर पाया उसका; तु—लेकिन; शत्रुत्वे—शत्रुता के कारण; वर्तेत—बना रहता है; आत्मा एव—वही मन; शत्रुवत्—शत्रु की भांति। अनुवाद: जिसने... आगे पढ़े

इस दिशा में मुंह कर बनाएं खाना, परिवार हमेशा रहेगा Healthy-wealthy

Updated on 12 November, 2017, 7:00
आप किस दिशा की ओर मुंह करके खाना बनाते हैं और किस दिशा की ओर मुंह करके खाना खाते हैं, इस पर कई बातें निर्भर करती हैं क्योंकि वास्तु शास्त्र के अनुसार घर में सब से महत्वपूर्ण रसोई घर माना जाता है। घर में कई बीमारियों और परेशानियों का कारण... आगे पढ़े

दूध भरे शंख से श्रीहरी का करें अभिषेक, धन के अभाव से मिलेगी मुक्ति

Updated on 12 November, 2017, 6:30
रविवार दि॰ 12.11.17 को शास्त्रानुसार श्रीकृष्ण का स्वरूप कहे जाने वाले मार्गशीर्ष माह में शंख पूजन का विशेष महत्व रहेगा।  विष्णु पुराण अनुसार समुद्र मंथन से प्राप्त 14 रत्नों में से शंख एक रत्न है। लक्ष्मी समुद्र पुत्री हैं व शंख उनका सहोदर भाई है। अष्टसिद्धि व नवनिधी में शंख... आगे पढ़े

सप्ताह के इस दिन करें यह कार्य, सफलता चूमेगी आपके कदम

Updated on 11 November, 2017, 7:00
ज्योतिष में सप्ताह के सात दिनों की प्रकृति और स्वभाव बताए गए हैं। इन सात दिनों पर ग्रहों का अपना प्रभाव होता है। अगर आप इन दिनों की प्रकृति और स्वभाव के अनुसार कार्यों को करें तो जरूर आपकी किस्मत साथ देगी। निश्चित ही हर काम में सफलता मिलेगी। जिस... आगे पढ़े

सुबह-सुबह न देखें इन चीजों को वरना, करना पड़ सकता है परेशानियों का सामना

Updated on 11 November, 2017, 6:45
शास्त्रों में कहा जाता है कि अगर हमारी सुबह शुभ कार्यों के साथ हो तो हमारा पूरा दिन अच्छा गुजरता है। लेकिन कुछ गलत दिख जाएं, तो पूरा दिन रो-रोकर बीतता है फिर यहीं लगता है कि कितनी जल्दी ये दिन बीते। जिससे कि ये खराब स्थिति खत्म हो। अक्सर... आगे पढ़े

हनुमान पूजन से शनि होते हैं प्रसन्न, साढ़ेसाती व ढैय्या का कुप्रभाव होता है कम

Updated on 11 November, 2017, 6:30
आज शनिवार दि॰ 11.11.17 को मार्गशीर्ष कृष्ण पक्ष के शनिवार के उपलक्ष्य में शनि व हनुमान की संयुक्त पूजन करना हितकारी रहेगा। शास्त्रनुसार शनि ग्रह को अति क्रूर कहा गया है। अशुभ शनि व्यक्ति का जीवन दुखों व असफलताओं से भर देता है। शनि के कुप्रभाव से बचने हेतु शास्त्रों... आगे पढ़े

16 शुक्रवार तक करें इस देवी की पूजा, होगा भाग्योदय

Updated on 10 November, 2017, 7:30
संतोषी मां को सभी इच्छाओं को पुर्ण करने वाली, संतोष प्रदान करन वाली और सभी परेशानियों को हर लेने वाली देवी मां माना जाता है। यह प्रथम पूज्य श्री गणेश जी की पुत्री है, जो भक्तों के दुर्भाग्य को सौभाग्य में बदल देती है एवं सुख समृद्धि प्रदान करती है।... आगे पढ़े

काल भैरव जंयती: महादेव के रौद्ररूप भैरव पूजन से शत्रुओं का होगा नाश

Updated on 10 November, 2017, 7:20
शुक्रवार दि॰ 10.11.17 को मार्गशीर्ष कृष्ण के उपलक्ष्य में काल भैरव जयंती पर्व मनाया जाएगा। शिव पुराण के अनुसार इसी दिन महादेव अपने रुद्रावतार भैरव के रूप में प्रकट हुए थे। पौराणिक मतानुसार अंधकासुर दैत्य अपनी अनीति व अत्याचार की सीमाएं पार करते हुए महादेव पर आक्रमण करने का दुस्साहस... आगे पढ़े

महाभारत ग्रंथ है उपदेश रत्नों की खान

Updated on 10 November, 2017, 7:15
महाभारत का भारतीय वाङ्मय में बहुत ऊंचा स्थान है। इसे पंचम वेद भी कहते हैं। इसका विद्वानों में वेदों सा आदर है। इसमें अर्थ, कर्म, काम और मोक्ष चारों ही पुरुषार्थों का निरुपण किया गया है। धर्म के तो प्राय: सभी अंगों का इसमें वर्णन है। वर्णाश्रमधर्म, राजधर्म, दानधर्म, श्राद्ध... आगे पढ़े

काठगढ़ महादेव मंदिर में है अर्धनारीश्वर शिवलिंग

Updated on 9 November, 2017, 7:15
हिमाचल प्रदेश की भूमि को देवभूमि कहा जाता है। यहां पर बहुत से आस्था के केंद्र विद्यमान हैं। हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिले के इंदौरा उपमंडल में काठगढ़ महादेव का मंदिर स्थित है। यह विश्व का एकमात्र मंदिर है जहां शिवलिंग ऐसे स्वरुप में विद्यमान हैं जो दो भागों में... आगे पढ़े

नौकरी न मिलने से हैं परेशान, वास्तु के ये टिप्स होगें Helpful

Updated on 9 November, 2017, 7:00
आज कल की प्रति स्पर्धा को देखते हुए सामान्य व्यक्ति की कामना होती है कि उस की एक अच्छी नौकरी लग जाए। कभी-कभी एेसा होता है कि व्यक्ति सर्वगुण संपंन होने के बाद भी अपने जीवन में कामयाब नहीं हो पाता और बेेरोजगार ही रह जाता है। व्यक्ति द्वारा की... आगे पढ़े

लक्ष्मी जी की इस दुर्लभ फोटो की करें पूजा, व्यापार में होगा लाभ

Updated on 9 November, 2017, 6:30
दी॰ 09.11.17 को मार्गशीर्ष कृष्ण षष्ठी पर पहला बृहस्पतिवार पड़ने के कारण लक्ष्मी पूजन विशेष लाभकारी रहेगा। अगहन नाम से प्रचलित मार्गशीष माह के बृहस्पतिवार को लक्ष्मी पूजन और यमुना स्नान का विशिष्ट महत्व है। इस माह में लक्ष्मी जी की ऐसी मूर्ति व चित्र लगाना चाहिए जिसमें वह कमल... आगे पढ़े

इन वास्तु के टिप्स को आॅफिस में करें Follow, मिलेगा भरपूर धन-लाभ

Updated on 8 November, 2017, 7:00
आज कल प्रतिस्पर्धा का जमाना है। लोग अपनी व्यापार में आगे बढ़ने के लिए जी जान से मेहनत करते हैं। आजीविका कमाने, अपनी महत्वाकांक्षाओं को पूरा करने और व्यवसाय में सफलता प्राप्त करने के लिए लोग उत्पादक समय का एक बड़ा हिस्सा काम में व्यतीत करते हैं। जिसके लिए लोग... आगे पढ़े

अन्न-धन की कमी से बचने के लिए किचन में छुपाकर रखें ये चीज

Updated on 8 November, 2017, 6:45
दी॰ 08.11.17 को मार्गशीर्ष कृष्ण पक्ष की पंचमी व बुधवार के उपलक्ष में मां अन्नपूर्णा के पूजन व अनुष्ठान का विशेष महत्व है। शास्त्रनुसार देवी अन्नपूर्णा को सम्पूर्ण विश्व का संचालन करने वाली जगदंबा का ही रूप माना गया है। अन्नपूर्णा ही संपूर्ण संसार का भरण-पोषण करती हैं। अन्नपूर्णा का... आगे पढ़े

इस मंदिर में लगातार बढ़ रहा श्री गणेश की प्रतिमा का आकार

Updated on 8 November, 2017, 6:30
भारत में अलग-अलग धर्मों के अनुयायी रहते हैं। सभी धर्मों का इतिहास चमत्कारिक घटनाओं से भरा हुआ है। स्वर्गलोक में बैठे ईश्वर समय-समय पर धरती पर अवतार लेते आए हैं, लेकिन कई बार साक्षात रूप में नहीं बल्कि, प्रतीकात्मक रूप में ही अपने भक्तों को अपने होने का एहसास करवाते... आगे पढ़े

त्रिवेंद्रम के श्री पद्मनाभस्वामी मंदिर के तहखाने में छिपा है एक राज

Updated on 7 November, 2017, 17:15
 भगवान विष्‍णु का है मंदिर    श्री पद्मनाभस्वामी मंदिर भारत के केरल राज्य के तिरुअनन्तपुरम में भगवान विष्णु का प्रसिद्ध हिन्दू मंदिर है। यह मंदिर भारत के प्रमुख वैष्णव मंदिरों में शामिल है। इसके साथ ही इस मंदिर का ऐतिहासिक महत्‍व भी है। पद्मनाभ स्वामी मंदिर विष्णु भक्तों का महत्वपूर्ण आराधना स्थल... आगे पढ़े

मां देवकी की इच्छा पूर्ती के लिए श्रीकृष्ण गए यमलोक

Updated on 7 November, 2017, 10:10
हम सब ये तो जानतें ही होंगे कि श्रीकृष्ण के मामा कंस ने अपनी मृत्य के भय से अपनी ही चचेरी बहन को बंधी बना लिया था और उसकी छ: संतानों को मार डाला था। लेकिन हम में से बहुत कम लोगों को येे पता होगा कि श्री कृष्ण ने... आगे पढ़े

परेशानियों से पाना चाहते हैं छुटकारा तो इन बातों का रखें ध्यान

Updated on 7 November, 2017, 6:45
वास्तु शास्त्र के अनुसार कुछ वस्तुएं ऐसी होती हैं जो घर में नकारात्मक ऊर्जा लाने का काम करती हैं। वह धीरे-धीरे घर के वातावरण को बिगाड़ती हैं और हमारे जीवन पर गहरा प्रभाव बनाती हैं। यह एक प्रकार की किरणों के रूप में हमें नुकसान पहुंचाती हैं। कुछ ऐसी ही... आगे पढ़े

घर पर करें महाटोटका, तिजोरी में रखें ये चीज

Updated on 7 November, 2017, 6:30
दि॰ 07.11.17 को मार्गशीर्ष कृष्ण चतुर्थी पर आंगरक चतुर्थी मनाई जाएगी। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार मंगलवार पर पड़ने वाली चतुर्थी को अंगारक चतुर्थी कहते हैं। शास्त्रनुसार गणेश जी का जन्म चतुर्थी तिथि पर हुआ था। इसी कारण चतुर्थी तिथि गणेशजी को अत्यधिक प्रिय है। श्रीगणेश को चतुर्थी का स्वामी बताया गया... आगे पढ़े

अंगारकी चतुर्थी पर इस उपाय से म‍िलेगी कर्ज से मुक्‍त‍ि, जानें गणेश पूजन का मुहुर्त व व‍िध‍ि

Updated on 6 November, 2017, 17:15
गणेश जी जल्‍दी प्रसन्‍न होते ह‍िंदू धर्म में दो हर माह में दो चतुर्थी मनाई जाती हैं। ज‍िनमें एक अमावस्या के बाद शुक्ल पक्ष में और दूसरी पूर्णिमा के बाद कृष्ण पक्ष में मनाई जाती है। ऐसे में इस बार 7 नवंबर को मार्गशीर्ष कृष्ण चतुर्थी पर मंगलवार का द‍िन पड़ने... आगे पढ़े

मार्गशीर्ष माह में चद्रंमा बरसाएंगे अमृत, मनोविकारों से मिलगी मुक्ति

Updated on 6 November, 2017, 6:30
 दि॰ 06.11.17 को मार्गशीर्ष महीने के पहले सोमवार व रोहिणी नक्षत्र के उपलक्ष्य में चंद्रदेव का पूजन श्रेष्ठ रहेगा। भगवद्गीता के दशम अध्याय में श्रीकृष्ण ने अपनी 56 विशिष्ट विभूतियों का उल्लेख करते हुए कहा है कि मैं संवत्सर में मार्गशीर्ष माह हूं। श्रीकृष्ण ने गोपियों से कहा था कि... आगे पढ़े

त्यौहार: 5 नवंबर से 11 नवंबर, 2017 तक

Updated on 5 November, 2017, 22:25
प्रस्तुत सप्ताह का प्रारंभ विक्रमी कार्तिक प्रविष्टे 20, मार्गशीर्ष कृष्ण तिथि प्रतिपदा पर्ता द्वितीया (द्वितीया तिथि का क्षय), रविवार, विक्रमी सम्वत् 2074, राष्ट्रीय शक सम्वत् 1939, दिनांक 14 (कार्तिक) को होकर समाप्ति विक्रमी कार्तिक प्रविष्टे 26, मार्गशीर्ष कृष्णतिथि अष्टमी, शनिवार को होगी। पर्व, दिवस तथा त्यौहार: 5 नवम्बर मार्गशीर्ष कृष्ण पक्षारंभ,... आगे पढ़े

मेन गेट पर बांधे ये चीज, तुरंत होगा पारिवारिक झगड़ों का अंत

Updated on 5 November, 2017, 8:40
आज रविवार दी॰ 05.11.17 मार्गशीर्ष शुक्ल प्रतिपदा व कृतिका नक्षत्र के उपलक्ष में मार्गशीर्ष कार्तिगई दीपम पर्व मनाया जाएगा। हर महीने मनाया जाने वाला कार्तिगई दीपम दक्षणी संस्कृति का सबसे प्राचीन पर्व माना जाता है। कार्तिगई दीपम पर्व की उत्पत्ति का मूल सूर्य का नक्षत्र कृतिका है। ज्योतिषशास्त्र में अग्निदेव... आगे पढ़े

खुद को करें भगवान श्री कृष्ण को समर्पित, प्रदान होगी सद्गति

Updated on 5 November, 2017, 8:00
भगवान श्रीकृष्ण साक्षात् परिपूर्ण ब्रह्म के अवतार माने जाते हैं। आज से लगभग पांच हजार साल पहले मथुरा नगरी में जब अाकाशवाणी में कंस ने बहन देवकी के आठवें पुत्र से अपनी मौत के बारे में सुना तो वह भगवान श्री कृष्ण को अपना शत्रु मानने लगा। उसने अपने मंत्रियों... आगे पढ़े

मक्‍का मदीना में भी जिस के चमत्‍कार को लोगों ने किया सलाम

Updated on 4 November, 2017, 11:15
जब मक्‍का पहुंचे नानक साहब   कहते हैं कि एक बार सिक्‍खों के प्रथम गुरू श्री नानक देव जी यात्रा करते हुए मक्‍का मदीना पहुंच गए। जब वह मक्का पहुंचे तो शाम हो चुकी थी और उनके सभी सहयात्री काफी थकान का अनुभव कर रहे थे। मक्का में मुस्लिम समुदाय का प्रसिद्ध... आगे पढ़े

युद्ध के दौरान श्रीकृष्ण ने अर्जुन को करवाया था कर्तव्याभास

Updated on 4 November, 2017, 10:30
कुरुक्षेत्र में पार्थसारथि भगवान श्रीकृष्ण धनुर्धर अर्जुन का रथ हांक ले आए थे। पांडवों और कौरवपुत्रों की विशाल चतुरंगिणी सेनाएं दोनों ओर आमने-सामने खड़ी थीं। कौरव सेना का नेतृत्व महाबली भीष्म पितामह कर रहे थे और पाण्डवों ने व्यूह रचना का भार द्रुपद राज के पुत्र धृष्टद्युम्न को सौंपा। दोनों... आगे पढ़े

Visitor Counter