Monday, 17 June 2019, 6:57 AM

ज्योतिष एवं वास्तु

अहोई अष्टमी आज: बच्चों के लिए माताओं का निर्जला व्रत

Updated on 22 October, 2016, 9:18
बच्चों की समृद्धि के लिए अहोई अष्टमी का व्रत कार्तिक कृष्ण पक्ष की अष्टमी को रखा जाता है। शनिवार को सुबह चार बजे चांद देख कर व्रत शुरू हुआ और रात को तारे देखकर यह सम्पन्न होगा। लखनऊ के केशवनगर स्थित श्रीहरिकेश महादेव मंदिर के पंडित सियाराम तिवारी के अनुसार करवा... आगे पढ़े

अहोई अष्टमी कल: ये है व्रत का महत्व और पूजा विधि

Updated on 21 October, 2016, 14:33
कल 22 अक्टूबर को कार्तिक कृष्ण पक्ष की सप्तमी और अष्टमी पर पडऩे वाली अहोई माता का व्रत है। करवा चौथ के 4 दिन बाद और दीपावली से 8 दिन पूर्व पडऩे वाला यह व्रत, पुत्रवती महिलाएं ,पुत्रों के कल्याण,दीर्घायु, सुख समृद्घि के लिए निर्जल करती हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में... आगे पढ़े

साल में एक बार आता है धन के देवी-देवता को प्रसन्न करने का खास मौका

Updated on 21 October, 2016, 0:19
पंच पर्व में आने वाली त्रयोदशी को धनतेरस (28 अक्टूबर, शुक्रवार) व अमावस्या (30 अक्टूबर, रविवार) पर पड़ने वाली दीपावली का बहुत महत्व है। यह साल के दो ऐसे दिन हैं, जब धन के देवी-देवता को प्रसन्न करने का खास मौका प्राप्त होता है। धनतेरस पर कुबेर देव और दीवाली... आगे पढ़े

घर-गृहस्थी की कुछ बातें, जिन पर अमल करने से चमक उठेगी किस्मत

Updated on 20 October, 2016, 0:03
घर में व्यक्ति कई बार इस प्रकार के कार्य कर जाता है, जिससे घर के पारिवारिक सदस्यों का भाग्य दुर्भाग्य में बदलना आरंभ हो जाता है। इसके साथ ही धन हानि अौर घर की सुख-समृद्धि भी समाप्त हो जाती है। घर-गृहस्थी की कुछ बातें अपनाने से इन सभी परेशानियों से... आगे पढ़े

सुहागिनों के इंतजार की घंड़ी खत्म, करवाचौथ पर हुआ चांद का दीदार

Updated on 19 October, 2016, 21:40
नई दिल्ली: कार्तिक मास कृष्ण पक्ष की चतुर्थी में आज देशभर में करवाचौथ का पर्व मनाया जा रहा है। सुहागिनों के लिए बेसर्बी की घड़ी खत्म हो चुकी हैं। देशभर में चांद निकल आया है। जिसे देखकर सुहागिनें अपना व्रत तोड़ेगी। आज के दिन भगवान श्रीगणेश, चंद्रमा व पति का... आगे पढ़े

आजमा कर देखें ये तरीके, देखते-देखते पलट जाएगी किस्मत

Updated on 19 October, 2016, 16:31
अगर आपके भी बने काम बिगड़ जाते हैं, लाख कोशिशों के बाद भी पैसे नहीं रुकते. आप चाहकर भी वो नहीं कर पाते जो करना चाहते हैं तो घबराइए मत हम बताते हैं आपको कुछ ऐसे उपाय जो आपकी इन सब परेशानियों को हमेशा के लिए दूर कर देंगे. शास्त्रों में... आगे पढ़े

आखिर क्यों मनाया जाता है करवाचौथ!

Updated on 19 October, 2016, 10:42
नई दिल्ली। आज सुहागिनों का त्योहार करवाचौथ है, इस दिन सुहागिनें अपने पति की लंबी उम्र के लिए व्रत रखती हैं। पति की लंबी उम्र और अखंड सौभाग्य की प्राप्ति के लिए इस दिन चंद्रमा की पूजा की जाती है। चंद्रमा के साथ- साथ भगवान शिव, पार्वती जी, श्रीगणेश और कार्तिकेय की... आगे पढ़े

करवाचौथ: कब होगा आपके शहर में चांद का दीदार

Updated on 19 October, 2016, 0:03
करवा चौथ का व्रत एक ऐसा पर्व है जिसमें भारतीय नारी की अपने पति के प्रति स्नेह तथा उसकी रक्षा की कामना की झलक साफ दिखाई देती है। इस दिन हर सौभाग्यवती स्त्री एक नई दुल्हन की तरह सजी दिखाई देती है। मेहंदी और चूडिय़ों का इस दिन विशेष महत्व... आगे पढ़े

करवाचौथ का चांद लगा सकता है कलंक का दाग!

Updated on 18 October, 2016, 21:42
भारतीय महिलाओं की आस्था, परंपरा, धार्मिकता, अपने पति के लिये प्यार, सम्मान, समर्पण करवाचौथ व्रत में काफी हद तक निहित है। इस व्रत को लेकर सुहागनों में काफी उत्साह रहता है। इस दिन का इतंजार सुहागने बड़ी ही बेसब्री से करती हैं और अपने पति की लंबी आयु के लिए... आगे पढ़े

करवाचौथ पर किए गए ये काम अपशगुन माने जाते हैं, बरतें सावधानियां

Updated on 18 October, 2016, 9:44
19 अक्टूबर बुधवार को शुभ करवाचौथ का आगमन हो रहा है। हर सुहागन के लिए यह दिन खास होता है। अपने पति के स्वास्थ्य और दीर्घायु के लिए किया जाने वाला करवा चौथ का व्रत हर विवाहित स्त्री के जीवन में एक नई उमंग लाता है। महिलाएं सच्चे दिल से... आगे पढ़े

विशेष फलदायी है इस बार का करवा चौथ, 100 साल बाद बने हैं महासंयोग

Updated on 17 October, 2016, 8:50
कार्तिक कृष्ण पक्ष में करक चतुर्थी अर्थात करवा चौथ का लोकप्रिय व्रत सुहागिन और अविवाहित स्त्रियां पति की मंगल कामना एवं दीर्घायु के लिए निर्जल रखती हैं। इस दिन न केवल चंद्र देवता की पूजा होती है अपितु शिव-पार्वती और कार्तिकेय की भी पूजा की जाती है। इस दिन विवाहित... आगे पढ़े

भगवान की इन मूर्तियों की नहीं करनी चाहिए पूजा, जानिए क्यों?

Updated on 15 October, 2016, 18:24
हिंदू धर्म के लगभग सभी के घर में भगवान की मूर्तियां होती हैं, जिनकी हम पूजा करते हैं। कई ऐसे भी घर हैं जिन्होंने अपने घर में मंदिर बनवा रखा है, लेकिन क्या आपको पता है कि हमें अपने घरों या मंदिरों में किन मूर्तियों की पूजा नहीं करनी चाहिए?... आगे पढ़े

शरद पूर्णिमा आज, चंद्रमा की किरणों से टपकेगा अमृत

Updated on 15 October, 2016, 9:35
वैसे तो हर महीने पूर्णिमा होती है, लेकिन शरद पूर्णिमा का महत्व कुछ और ही है। अश्विन माह के शुक्लपक्ष की पूर्णिमा को शरद पूर्णिमा कहा जाता है। इस बार शरद पूर्णिमा 15 अक्टूबर, शनिवार को है। ऐसा विश्वास है कि इस दिन चंद्रमा की किरणों से अमृत टपकता है... आगे पढ़े

.ताकि रिश्तों में मधुर बना रहे तालमेल

Updated on 14 October, 2016, 21:55
जीवन में आपसी रिश्तों में मधुरता और अच्छा तालमेल बना रहे तो किसी को और क्या चाहिए? आपके रिश्ते हमेशा ही बेहतर बने रहें इसके लिए हम बता रहे हैं आपको कुछ फेंगशुई के टिप्स। फेंगशुई से आपसी रिश्तों को प्रभावित किया जा सकता है। - घर के दक्षिण-पश्चिम में क्रिस्टल... आगे पढ़े

शरद पूर्णिमा बन रहा है यह त्रियोग, होगी अमृत की बरसात

Updated on 14 October, 2016, 16:00
शरद पूर्णिमा 15 अक्टूबर 2016 शनिवार को होगी। इस पर्व पर रवि योग, गुरू-चन्द्रमा की परस्पर पूर्ण दृष्टि होने से बनेगा। और गजकेशरी योग व गुरू-चन्द्रमा के आमने-सामने होने से बनेगा। समसप्तक योग इस प्रकार तीन योगो का संयोग बनायेगा। त्रियोग होने के साथ ही पूर्णिमा के दिन चन्द्रमा 16 कलाओं... आगे पढ़े

रावण संहिता में बताए हैं अपार धन प्राप्ति के सरल उपाय

Updated on 14 October, 2016, 0:02
दशानन रावण सभी शास्त्रों का जानकार और श्रेष्ठ विद्वान था। रावण ने ज्योतिष, तंत्र, मंत्र जैसी अनेक किताबों की रचना की थी। इन्हीं में से एक रावण संहिता है। इसमें रावण ने बिल्व पत्र पूजन का विशेष महत्व बताया है। ज्योतिषशास्त्रियों के अनुसार रावण संहिता के अध्याय 4 में बिल्व... आगे पढ़े

इस बार दीपावली से पहले है अद्भुत संयोग, इस दिन खरीदारी का विशेष महत्व है

Updated on 13 October, 2016, 0:02
इस बार दीपावली से पहले है अद्भुत संयोग, इस दिन खरीदारी का विशेष महत्व है इस वर्ष यानी 2016 दीपावली से पहले रवि पुष्य अमृत सिद्धी योग 23 अक्टूबर, रविवार को 15 घंटे का होगा। महामुहूर्त के दौरान धनतेरस व दीपावली से पहले खरीददारी करना शुभ होगा। इस बार धनतेरस से पहले... आगे पढ़े

द्रोपदी कर्ण से विवाह करना चाहती थीं लेकिन

Updated on 12 October, 2016, 18:14
द्रोपदी कर्ण से विवाह करना चाहती थीं लेकिनद्रोपदी कर्ण से विवाह करना चाहती थीं, हुआ यूं कि द्रोपदी कर्ण का चित्र देखकर उन्हें पसंद करने लगी थीं। जब स्वयंवर का दिन आया तो द्रोपदी की दृष्टि सभी राजाओं और पांडवों में से कर्ण महाभारत में वैसे तो कई पात्र हैं। लेकिन... आगे पढ़े

कार्तिक महीना आरंभ: पैसा खर्च किए बिना करें घोर से घोर पाप का नाश

Updated on 12 October, 2016, 9:08
कार्तिक का महीना, बारह महीनों में से श्रेष्ठ है। शास्त्रों के अनुसार कार्तिक मास को स्नान, व्रत व तप की दृष्टि से मोक्ष प्रदान करने वाला कहा गया है। यह महीना भगवान श्रीकृष्ण को अति प्रिय है। इस महीने में किया गया थोड़ा सा भजन भी बहुत ज्यादा फल देता... आगे पढ़े

हनुमानजी की इन नामों को ग्यारह बार जााप करने वाला व्यक्ति दीर्घायु होता है

Updated on 11 October, 2016, 23:44
हनुमान के स्मरण मात्र से ही भूत-प्रेत, पिशाच तथा अनिष्टकारी शक्तियाँ दूर भाग जाती हैं। महावीर, ज्ञान, वैराग्य, बुद्घि के प्रदाता की साधना के अनेक रूप प्रचलित हैं। हनुमान जी को चमत्कारिक सफलता देने वाला देवता माना जाता है। श्री हनुमान जी की भक्ति करने वाले को बल, बुद्धि और... आगे पढ़े

इस मुस्लिम बाहुल्य देश में भी है अयोध्या

Updated on 10 October, 2016, 12:43
भारत में अयोध्या उत्तर फैजाबाद जिले का एक शहर है। यह वही स्थान है जहां त्रेतायुग में प्रभु श्रीराम ने जन्म लिया था। यह शहर सरयू नदी (घाघरा नदी) के दाएं तट पर बसा है। लेकिन दुनिया के मुस्लिम बाहुल्य देशों में से एक इंडोनेशिया में भी अयोध्या नगरी है। इंडोनेशिया... आगे पढ़े

नवमी-दशमी पर कुछ यूं सजती हैं बंगाल की औरतें

Updated on 10 October, 2016, 10:40
वैसे तो दुर्गा पूजा में बंगालियों का फैशन देखने को बनता है। षष्ठी, सप्तमी, अष्टमी, नवमी और दशमी ये पांच दिन बंगाल में फैशन के अलग-अलग रंग देखने को मिलते हैं। पूजा के हर दिन अलग-अलग कपड़े होते हैं। लेकिन अगर हम औरतों की बात करें, तो भई उनके फैशन... आगे पढ़े

यदि सोते हैं उत्तर दिशा में सिर रखकर, तो होगा बेहतर स्वास्थ्य

Updated on 9 October, 2016, 15:04
स्वास्थ्य, मनुष्य के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण होता है। अच्छा स्वास्थ्य मनुष्य के लिए सबसे बड़ा खजाना माना गया है। बेहतर स्वास्थ्य के लिए विज्ञान के साथ फेंगशुई में भी कई तरह की बातें बताई गई हैं। कुछ आसान टिह्रश्वस निम्न हैं... स्वास्थ्य के लिए फेंगशुई के उपाय - फेंगशुई के अनुसार... आगे पढ़े

तो क्या इसीलिए मनाते हैं दशहरा

Updated on 9 October, 2016, 11:10
व्यक्ति और समाज के रक्त में वीरता प्रकट हो इसलिए दशहरे का उत्सव रखा गया है। दशहरा का पर्व दस प्रकार के पापों- काम, क्रोध, लोभ, मोह, मद, मत्सर, अहंकार, आलस्य, हिंसा और चोरी के परित्याग की सद्प्रेरणा प्रदान करता है। विजयादशमी का दूसरा नाम दशहरा भी है। जब अहंकारी रावण... आगे पढ़े

अन्नपूर्णा का स्वरूप हैं महागौरी, आठवीं पूजा आज

Updated on 9 October, 2016, 8:14
नवरात्र के आठवें दिन मां महागौरी की पूजा की जाती है। अपनी तपस्या से इन्होंने गौर वर्ण प्राप्त किया था। उत्पत्ति के समय यह आठ वर्ष की आयु की थी। इसलिए उन्हें नवरात्र के आठवें दिन पूजा जाता है। अपने भक्तों के लिए यह अन्नपूर्णा स्वरूप हैं। यह धन वैभव... आगे पढ़े

कंजक पूजन के बाद करेंगे यह काम, बढ़ेगा बैंक बैलेंस

Updated on 8 October, 2016, 13:53
नवरात्रि में कुमारी पूजन या ‘कंजक पूजन’ का विशेष महत्व है। कहा जाता है कि कन्या पूजन से सभी प्रकार की सुख-सम्पदा मिलती है। इससे मनोवांछित कामनाएं पूर्ण होती हैं।   नवरात्रि में व्रत के समापन पर कन्याओं को भोजन कराने, उनका अर्चन-पूजन करने का विशेष महत्व बताया गया है। यूं तो... आगे पढ़े

आज शास्त्रों के अनुसार करें शराब का विशेष उपाय, लौट आएंगे अच्छे दिन

Updated on 8 October, 2016, 0:03
शनिवार का दिन शनि और काली को संबोधित होता है और इसी दिन शारदीय नवरात्र की सप्तमी पड़ रही है। जिसका संबंध देवी कालरात्रि से है। शास्त्रों से ज्ञात होता है की शनिदेव स्वयं महाकाल के भक्त और यम के अनुज हैं। काल का अर्थ अंधेरे से लिया गया है,... आगे पढ़े

कन्या भोज के बिना अधूरी है नवरात्रि पूजा, पढें, पूरी पूजन विधि

Updated on 8 October, 2016, 0:03
शास्त्रों में नवरात्रि के अवसर पर कन्या पूजन या कन्या भोज को अत्यंत ही महत्वपूर्ण बताया गया है। नवरात्रियों में देवी मां के सभी साधक कन्याओं को मां दुर्गा का दूसरा स्वरूप मानकर उनकी पूजा करते हैं। सनातन धर्म के लोगों में सदियों से ही कन्या पूजन और कन्या भोज... आगे पढ़े

कुंवारों की एक ही आस झोली भर देगा देवी कात्यायिनी का न्यास

Updated on 7 October, 2016, 0:02
श्लोक: या देवी सर्वभू‍तेषु कात्यायिनी रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:॥   अवतार वर्णन: पराशक्ति दुर्गा के छठे स्वरूप में नवरात्र की षष्ठी तिथि पर मां कात्यायिनी के विग्रह पूजन का शास्त्रों में आलेख है। महर्षि कत के गोत्र में उत्पन्न हुए उनके पौत्र महर्षि कात्यायन। महर्षि कात्यायन ने पराम्बा दुर्गा की... आगे पढ़े

पांचवा नवरात्र: बुद्धिहीन को मिलेगी बुद्धि, देवी स्कन्दमाता देंगी सिद्धि

Updated on 6 October, 2016, 7:43
श्लोक: या देवी सर्वभू‍तेषु स्कन्दमाता रूपेण संस्थिता।         नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:॥   अवतार वर्णन: शास्त्रों के अनुसार माता दुर्गा के पांचवे स्वरूप में नवरात्र की पंचमी तिथि पर मां स्कन्दमाता की आराधना का विधान है, आदिशक्ति दुर्गा के स्कन्दमाता स्वरूप की कृपा से मूढ़ भी ज्ञानी हो जाता... आगे पढ़े

Visitor Counter