Wednesday, 26 January 2022, 8:47 PM

धर्म कर्म

सोमवती अमावस्या पर इस कथा को पढ़ने और सुनने से मिलता है शुभ फल, धन का आशीष

Updated on 26 January, 2022, 6:45
उनमें से एक है गरीब ब्राह्मण परिवार की कथा। (Somvati amavasya Story)। उनकी एक कन्या थी जो कि बहुत ही प्रतिभावान एवं सर्वगुण संपन्न थी। जब वह विवाह के योग्य हो गई तो ब्राह्मण ने उसके लिए वर खोजना शुरू किया। कई योग्य वर मिले परंतु गरीबी के कारण विवाह... आगे पढ़े

जब शिव जी ने माता पार्वती को बताया था श्री राम के जन्म का कारण

Updated on 26 January, 2022, 6:30
भगवान शिव की कई कथाएं हैं जो आप सभी ने सुनी या पढ़ी होंगी। कहा जाता है भगवान शिव हर चीज के जानकार हैं और उन्होंने माता पार्वती को श्रीराम जन्म के जो प्रमुख कारण बताए हैं वह हमें पुराणों में मिलते हैं। जी दरअसल एक किंवदंती के अनुसार ब्राह्मणों... आगे पढ़े

मौनी अमावस्या के दिन करें ये उपाय, धन के भंडार भर जाएंगे

Updated on 26 January, 2022, 6:15
हिंदू धर्म में अमावस्या तिथि का विशेष महत्व होता है। अमावस्या तिथि पर दान, स्नान और पूजा-पाठ करने से पुण्य की प्राप्ति होती है। हिंदू पंचांग के अनुसार माघ महीने के कृष्ण पक्ष की अमावस्या को मौनी अमावस्या कहा जाता है। इस बार मौनी अमावस्या 01 फरवरी 2022 के दिन... आगे पढ़े

कितने दिनों तक बाणों की शैया पर लेटे रहे भीष्म? इनसे जुड़ी ये 8 बातें बहुत कम लोग जानते है

Updated on 26 January, 2022, 6:00
भीष्म बाण लगने के 58 दिन तक जीवित रहे थे। उन्होंने सूर्य के उत्तरायण होने का इंतजार किया। फिर इच्छामृत्यु के वरदान से सूर्य उत्तरायण होने के बाद अपने प्राण त्यागे थे। मरने से पहले भीष्म ने युधिष्ठिर को राज धर्म की शिक्षा भी दी थी। माघ मास के कृष्ण पक्ष... आगे पढ़े

किसके हाथों मारा गया था एकलव्य, उसके पुत्र ने कुरुक्षेत्र के युद्ध में किसका साथ दिया था?

Updated on 25 January, 2022, 6:45
इसके बाद एकलव्य ने द्रोणाचार्य की प्रतिमा को ही अपना गुरु मानकर धनुर्विद्या का अभ्यास किया। लगातार अभ्यास करने से वह भी धनुर्विद्या सीख गया। इसके बाद जो हुआ वो भी हम जानते हैं। लेकिन इसके अलावा भी महाभारत में कई बार एकलव्य का बारे में वर्णन मिलता है। आज हम... आगे पढ़े

कब है षटतिला एकादशी, क्‍या है महत्‍व, जानें शुभ मुहूर्त और पूजा विध‍ि

Updated on 25 January, 2022, 6:30
हिंदू पंचांग के अनुसार माघ महीने के कृष्ण पक्ष की एकादशी को षटतिला एकादशी कहते हैं। इस एकादाशी को सब पापों का हरण करने वाली माना जाता है। इस दिन भगवान विष्‍णु की तिल चढ़ाते हैं और तिल से बनी ख‍िचड़ी का प्रसाद चढ़ाया जाता है। षटतिला एकादशी व्रत में... आगे पढ़े

आखिर क्यों आरती के बाद बोलते हैं कर्पूरगौरं करुणावतारं, जानिए रहस्य

Updated on 25 January, 2022, 6:15
आप सभी जानते ही होंगे मंदिरों में या हमारे घर में जब भी पूजन कर्म होते हैं तो वहां कुछ मंत्रों का जाप अनिवार्य रूप से किया जाता है। जी दरअसल सभी देवी-देवताओं के मंत्र अलग-अलग हैं, हालाँकि हम सभी के घर में और मंदिर में जब भी आरती पूर्ण... आगे पढ़े

मौनी अमावस्या पर पितृ दोष से छुटकारा पाने के लिए जरूर करें ये उपाय

Updated on 25 January, 2022, 6:00
हिंदू धर्म में अमावस्या तिथि का विशेष महत्व होता है। अमावस्या तिथि पर दान, स्नान और पूजा-पाठ करने से पुण्य की प्राप्ति होती है। हिंदू पंचांग के अनुसार माघ महीने के कृष्ण पक्ष की अमावस्या को मौनी अमावस्या कहा जाता है। इस बार मौनी अमावस्या 01 फरवरी 2022 के दिन... आगे पढ़े

25 जनवरी को कालाष्टमी पर करें भगवान काल भैरव की पूजा, इस दिन बन रहे हैं 2 शुभ योग

Updated on 24 January, 2022, 6:45
मान्यता है कि भगवान शिव की नगरी काशी की रक्षा वहां के कोतवाल बाबा काल भैरव ही करते हैं। मान्यता के अनुसार इस दिन व्रत करने से क्रूर ग्रहों का प्रभाव भी खत्म हो जाता है और ग्रह शुभ फल देना शुरू कर देते हैं। इस बार ये व्रत 25 जनवरी,... आगे पढ़े

हिंदू धर्म में मृत्यु के बाद क्यों किया जाता है गरुड़ पुराण का पाठ

Updated on 24 January, 2022, 6:30
हिंदू धर्मानुसार जब किसी के घर में किसी की मौत हो जाती है तो 13 दिन तक गरूड़ पुराण का पाठ रखा जाता है। शास्त्रों अनुसार कोई आत्मा तत्काल ही दूसरा जन्म धारण कर लेती है। किसी को 3 दिन लगते हैं, किसी को 10 से 13 दिन लगते हैं और... आगे पढ़े

शालिग्राम की पूजा के समय रखें इन बातों का ध्यान, वरना हो सकती हैं धन हानि

Updated on 24 January, 2022, 6:15
भगवान विष्णु के निराकार तथा विग्रह रूप को शालिग्राम कहते हैं। जिस प्रकार भगवान शिव का उनके निराकार रूप शिवलिंग का पूजन होता है, उसी प्रकार भगवान विष्णु का विग्रह रूप शालिग्राम है। वैष्णव संप्रदाय में भगवान विष्णु के चतुर्भुजी मूर्ति रूप के साथ निराकार, विग्रह रूप के पूजन का भी... आगे पढ़े

मौनी अमावस्या 1 फरवरी को, जानिए शुभ मुहूर्त और इस दिन कौन-से काम करने चाहिए

Updated on 24 January, 2022, 6:00
माघ मास की अमावस्या को माघी अमावस्या व मौनी अमावस्या (Mauni Amavasya 2022) कहा जाता है। इस बार मौनी अमावस्या 1 फरवरी, मंगलवार को है। मौनी अमावस्या के दिन विधि-विधान से भगवान का पूजन करते हैं, लेकिन इस दिन पूजा-पाठ के भी कुछ नियम होते हैं। आगे जानिए मौनी अमावस्या के... आगे पढ़े

'जयगढ़ के किले' में छुपे हैं अनेक रहस्य, भैरव देव करते हैं रक्षा

Updated on 23 January, 2022, 6:45
जयपुर की अरावली पर्वत श्रृंखलाओं पर स्थित जयगढ़ किला स्थापत्य तथा अपनी अद्भुत बनावट के लिए तो विख्यात है ही, परंतु आपातकाल के दौरान इसमें गढ़े खजाने की खुदाई के समय भी यह पूरे देश में चर्चा का विषय बन गया था। हालांकि, लाखों रुपए व्यय करके खुदाई कार्यक्रम पूरे एक... आगे पढ़े

घर के ईशान कोण में करें ये काम, धन संबंधित हर समस्या का होगा नाश

Updated on 22 January, 2022, 6:45
हर वर्ष सकट चौथ का व्रत माघ महीने के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि पर रखा जाता है। इस वर्ष चतुर्थी तिथि 21 जनवरी की सुबह 08 बजकर 51 मिनट से शुरू होकर अगले दिन 22 जनवरी की सुबह 09 बजकर 14 मिनट तक रहेगी। वर्तमान काल में चल रहे ग्रह... आगे पढ़े

इस दिन मनाई जाएगी वसन्त पञ्चमी, जानिए क्या है पूजन का शुभ मुहूर्त

Updated on 22 January, 2022, 6:30
वसन्त पञ्चमी 5फरवरी 2022 दिन शनिवार को मनाया जाएगा बसंत पंचमी माघ माह के शुक्ल पक्ष की पंचमी को मनाई जाती है. आज ही के दिन से भारत में वसंत ऋतु का आरम्भ होता है. इस दिन सरस्वती पूजा भी की जाती है. बसंत पंचमी की पूजा सूर्योदय के बाद... आगे पढ़े

कब है मौनी अमावस्या? जानें तिथि, शुभ मुहूर्त, व्रत नियम और महत्व

Updated on 22 January, 2022, 6:15
इस साल मौनी अमावस्या 1 फरवरी, मंगलवार को है नियमानुसार, मौनी अमावस्या पर स्नान करते समय मौन रहें Mauni Amavasya 2022 Date: हिंदू पंचांग के अनुसार, माघ कृष्ण पक्ष में आने वाली अमावस्या को माघ अमावस्या या मौनी अमावस्या कहते हैं। धार्मिक मान्यता के अनुसार, मौनी अमावस्या का विशेष महत्व है। ऐसी... आगे पढ़े

28 जनवरी को किया जाएगा षटतिला एकादशी व्रत, जानिए शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और कथा

Updated on 22 January, 2022, 6:00
षटतिला एकादशी पर (Shattila Ekadashi 2022) तिल को पानी में डालकर स्नान करने और तिल का दान करने का भी विशेष महत्व बताया गया है। षटतिला एकादशी व्रत में तिल का छ: रूप में उपयोग करना उत्तम फलदाई माना जाता है। जो व्यक्ति जितने रूपों में तिल का उपयोग तथा दान... आगे पढ़े

दुनिया के तीसरे सबसे बड़े मंदिर से जुड़ी हैं ये रोचक बातें

Updated on 21 January, 2022, 6:45
देश की राजधानी दिल्ली में स्थित स्वामी नारायण अक्षरधाम मंदिर या अक्षरधाम मंदिर दिल्ली के प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है। यह दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा स्वामीनारायण अक्षरधाम मंदिर है। जो भारतीय संस्कृति, सभ्यता, परंपराओं और आध्यात्मिकता की आत्मा को दर्शाता है। मंदिर निर्माण में वास्तु शास्त्र और पंचरात्र... आगे पढ़े

साल 2022 की पहली सोमवती अमावस्या 1 फरवरी को, जानिए इस तिथि का महत्व और किए जाने वाले उपाय

Updated on 21 January, 2022, 6:30
मान्यता है कि इस दिन किसी तीर्थ स्थान पर जाकर स्नान-दान करने से शुभ फल की प्राप्ति होती है। इसके साथ ही पितृ दोष से मुक्ति पाने के लिये अमावस्या के दिन पितरों का श्राद्ध और तर्पण भी किया जाता है। इस बार अमावस्या तिथि 31 जनवरी और 1 फरवरी को... आगे पढ़े

षटतिला एकादशी व्रत कब है़ क्या होता विशेष पूजा पारण का समय कब होगा

Updated on 21 January, 2022, 6:15
षटतिला एकादशी के दिन भगवान विष्णु का पूजन किया जाता है. कुछ लोग बैकुण्ठ रूप में भी भगवान विष्णु की पूजा करते हैं. षटतिला एकादशी पर तिल का विशेष महत्व बताया गया है. इस दिन 6 प्रकार से तिलों का उपोयग किया जाता है. इनमें तिल से स्नान, तिल का... आगे पढ़े

संतान की लंबी आयु के लिए माताएं सकट चौथ पर जरूर सुनें गणेश कथा

Updated on 21 January, 2022, 6:00
प्रत्येक माह की चतुर्थी श्रीगणेशजी की पूजा-अर्चना के लिए सर्वश्रेष्ठ मानी जाती है। अपनी संतान की मंगलकामना के लिए महिलाएं माघ मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को व्रत रखती है। इसे संकष्टी चतुर्थी, लंबोदर संकष्टी चतुर्थी,तिलकुटा चौथ एवं माघी चौथ के नाम से जाना जाता है। इस दिन विघ्नहर्ता... आगे पढ़े

त्रिशूल का निशान होता है शुभ

Updated on 20 January, 2022, 7:00
हस्तरेखा ज्योतिष में लोगों की हाथ की लकीरें और निशान देखकर उनके भविष्य के बारें में कई बातों का पता लगाया जा सकता है। हथेली पर कई निशान होते है इन्हीं निशानों में से एक निशान ऐसा होता है जो हजार लोगों में से एक व्यक्ति के हाथ में बना... आगे पढ़े

मंगलसूत्र धारण करने के नियम और इसका महत्व

Updated on 20 January, 2022, 6:45
सनातन धर्म में विवाह में मंगलसूत्र का सबसे अहम स्थान है। इसके साथ ही वैवाहिक जीवन का प्रतीक माने जाने वाले मंगलसूत्र को धारण करने के नियम और सावधानियां भी बतायी गयी हैं। मंगलसूत्र एक काले मोतियों की माला होती है, जिसे महिलाएं अपने गले में धारण करती हैं। इसके अंदर... आगे पढ़े

काली बिल्ली रास्ता काटे तो माना जाता है अशुभ  ?

Updated on 20 January, 2022, 6:30
प्राचीन काल से ही ऐसी मान्यता प्रचलित है कि अगर बिल्ली आपका रास्ता काट दे तो आपको कुछ देर रूक जाना चाहिए या उस रास्ते से नहीं गुजरना चाहिए, खासकर यदि काली बिल्ली आपका रास्ता काटे तो इसे बहुत अशुभ माना जाता है। हमारे परिजन भी हमेशा हमें बिल्ली द्वारा रास्ता... आगे पढ़े

मोटापे का ग्रहों से भी संबंध

Updated on 20 January, 2022, 6:15
मोटापे के लिए ग्रहों को भी जिम्मेदार माना गया है। इसका कारण है कि मोटापे का ग्रहों से भी संबंध बताया जाता है। ऐसे में ज्योतिष के अनुसार ही अग्नि, जल एवं तत्व की राशियों को मोटापा दूर करने के लिए कुछ उपाय करने चाहिए। शरीर में मोटापा बढ़ाने के लिए... आगे पढ़े

सही दिशा में बनवायें खिड़की और दरवाजे 

Updated on 20 January, 2022, 6:00
घर या दुकान में लगे खिड़की-दरवाजे भी आपकी जेब पर असर डालते हैं। इसलिए दरवाजों और खिड़कियों को गलत दिशा में लगाने और उनके गलत दिशा में खुलने या बंद होने पर भी धन की लक्ष्मी नाराज हो जाती है। इस कारण घर में खिड़की ओर दरवाजों को लगवाते समय... आगे पढ़े

कब है बसंत पंचमी? जानें तिथि, मुहूर्त और इस त्योहार का महत्व

Updated on 19 January, 2022, 7:00
माघ का महीना चल रहा है। माघ के महीने में ही बसंत पंचमी का त्योहार बहुत ही धूमधाम के साथ मनाया जाता है। हिंदू पंचांग के अनुसार हर वर्ष माघ महीने के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि पर बसंत पंचमी का त्योहार मनाया जाता है। बसंत ऋतु को सभी 6 ऋतुओं... आगे पढ़े

क्यों कहा जाता है 'सत्यम शिवम् सुंदरम्'

Updated on 19 January, 2022, 6:45
भगवान शिव भारतीय जीवन की ऊर्जा और रचनात्मक शक्ति के प्रतीक हैं। शिव भारत की धरती की संस्कृति में समाहित हैं। 'सत्यम, शिवम्, सुंदरम्' भारतीय संस्कृति का आदर्श है। सत्य ही शिव, शिव ही सुंदर हैं। शिव स्वास्थ्यप्रद औषधियों के परम ज्ञाता, ज्ञान, योग, विद्या, व्याख्यान तथा सभी शास्त्रों में... आगे पढ़े

कल्पवास क्या होता है,जानिए कल्पवास से जुड़ी मान्यताएं

Updated on 19 January, 2022, 6:30
कल्पवास का अर्थ होता है संगम के तट पर निवास कर वेदाध्ययन, व्रत, संत्संग और ध्यान करना। कल्पवास पौष माह के 11वें दिन से माघ माह के 12वें दिन तक रहता है। कुछ लोग माघ पूर्णिमा तक कल्पवास करते हैं। कल्पवास क्यों और कब से : प्राचीनकाल में तीर्थराज प्रयागराज... आगे पढ़े

तिरुपति बालाजी मंत्र के जाप से जीवन में होते हैं अद्भुत चमत्कार

Updated on 19 January, 2022, 6:15
 तिरुपति बालाजी का दिव्य-भव्य मंदिर आज भी दक्षिण भारतीय वास्तुकला और शिल्प का सर्वोत्तम उदाहरण है। भगवान तिरुपति बालाजी भगवान विष्णु का ही दूसरा रूप है। तिरुपति बालाजी मंत्र से भगवान बालाजी को प्रसन्न किया जाता है,उनके प्रति सम्मान और श्रद्धा प्रकट की जाती है। तिरुपति बालाजी मंत्र अत्यंत प्रभावशाली है... यह... आगे पढ़े

Visitor Counter